Saturday, 27 October 2018

Tally.ERP9 Me Contra Entry Kese Kare


Contra  Voucher – Is Voucher Me Only Bank Aur Cash Se Releted Entry Kr Sakte H Example Ke Liye Maan Lijiye Aapne Bank Me Cash Ya Cheque Deposite Krwaya Ya Cash Nikala H To Contra Voucher Me Entry Karenge Yadi Aap Ek Bank Se Kisi Dusri Bank Me Balance Transfer Krte Ho To Bhi Contra Voucher Voucher Me Hi Entry Karenge .

Niche Diye Gaye Transaction Hone Per Hum Contra Entry Karenge-

Cash To Bank
Cash To Cash
Bank To Cash
Bank To Bank

Contra Entry Ko Contra Kyo Bolte H Aaiye Jaante H

Dosto Contra Entry Ko Kontra Esliye Bolte H Kyo Ki Isme Aapka Paisa Aapke Pass Hi Rhata H Bank Me Ho Ya Aapke Pass But H To Aapke Pass Hi Example Ke Liye Maan Lijiye Ki Aapke Upper Ke Pocket Me Kuch Rupaiye H Jinko Aapne Niche Ke Pocket Me Daal Liya To Is Isthiti Me Who Paise H To Aapke Pass Hi To Isliye Is Entry Ko Contra Entry Bolte H.


Dosto Itna Sab Jaanne Ke Baad Me Hum Janenge Ki Tally Me Contra Voucher Me Entry Kese Kare.Tally Me Contra Entry Karne Ke Liye Hum Kuch Steps Ka Flow Karenge Jese –
Tally.ERP9 Me Contra Voucher Me Entry Kese Kare Aaiye Jaante H-

Read-Tally.ERP9 me voucher entry kese kare

Dosto Simple Si Baat H Tally Me Work Karne Ke Liye Hume Sabse P[Ahle Company To Create  Krni Hi Padti H
Dosto Aapne Apni Tally Me Contra Entry Karne Ke Liye Yadi Company Bana Li H To Thik H Warna Aap Hamari Yeh Post Read Krke Aasani Se Company Create Kr Sakte Ho Tally.ERP9 Me Company Kese Banaye

2. Select  The Company –

Dosto Ydi Aapne Phle Se Koi Company Create Kr Rakhi H To Aapko Koi Bhi Ek Company Select Krni Hogi Jisme Aap Work Karna Chahte Ho Uske Baad Aap Use Open Kre .

3.Geteway Of Tally-



Dosto Wese Dekha Jaaye To Getway Of Tally Tally Ka Homepage H Yaha Se Hi Hum Saare Opetions Ko Choose Krte H Yaha Per Aapko Kuch Is Trh Ke Opetion Milenge  Jesa Ki Pic Me Show Ho Rha H Jisme Sabse Upper Masters H Aur Uske Niche Transaction Name Likha Hua H Usme Aapko Accounting Voucher Per Mouce Se Click Karna H Ya Aap Keybord Se “V” Key Press Krke Bhi Ise Open Kr Sakte H

Uske Baad Me Aapke Saamne Accounting Voucher Open Ho Jayenge Accounting Voucher open Hone Ke Baad Me Tdi Contra Voucher Alredy Open Ho Gya H To Thik H Nahi To Fir Aapko Keybord Se” F4” Key Press Karni Hogi Jisse Contra Voucher Open Ho Jayega Uske Baad Me Hum Usme Entry Karenge.



Dodsto Yaad Rakhe Contra Voucher Me Phli Entry Hamesa Cr. Hoti H aur Dusri Entry Cr. Ya Dr. Dono Ho Sakti H.Contra Voucher Me Only For Cash And Bank Se Realeted Entry Hi Hogi Cash And Bank Ke Alawa Koi B Ledger Contra Voucher Me Show Ni Honge

Contra Voucher Se Jab Aap Bank Me Payment Deposite Krte Ho To Denominations Screen Show Hogi .Isme Aap Deposite Amount Ke Liye Denomination Set Krenge.Yeh Bank Depodite Slip Ke Anurup Hi Hoti Hjse Ki Image Me  Show Ho Raha H


Some Examples Of Contra Entry-

(1).Question. Cash Deposite In Bank 1000 Rupee In SBI Bank ?
Entry-       SBI Bank A/c Dr.   1,000

                                         To Cash A/c         1,000

(2).Question.Company Wihdraw Cash Rs.20000 From Axis Bank?
Entry-        Cash A/c Dr.        20,000
                                          To Axis Bank A/c      20,000

Aur Ha Dosto Aapko Tally Ke Bare Me Kuch B Puchana Ho To Aap Hume Comment Me Puch Sakte Ho Hum Aapki Turant Help Karenge.


Contra Entry Ka Video Dekhne Ke Liye Yaha Click Kare


Thanks Friends, Visite Again.

Monday, 4 June 2018

GST Me Income and Expeness ka Ledger Kese Banaye


Dosto  Kisi Bhi Business Me Stock Ya Services Ko Maintain Karne  Me Advance Expeness Aate H.




In Sab Expeness Ko Stock Item And Service Ke Amount Me Add Kiya Jata H Ya Fir Ise Different Trike Se Collect Kiya Jata H Jab Is Parkar Ka Expeness Coustmer Se Collect Kiya Jata H To Wah Expeness Business Owner Ke Liye Income Ban Jata H.
Dosto Is Parkar Ke Income And Expeness Ke Ledger Banate Waqt Accounts Ko प्रत्यक्ष या अप्रतयक्ष Is Ke Income And Expeness Group Ke Under Me Rakhe .

Gst Ke Liye Income And Expeness Se Releated Ledger Kuch Is Parkar Taiyar Kre.
(1.)Create Expeness Ledger For Gst-Packing Charges:
Ledger Creation                                                                      ABC   Company    
                                       
Name           : Packing Charges
(alias)           :

Unde                                            :  Indirect expenes:
Inventory Value Are Affected  ? No

                              Statutory Information
Is Gst Applicable                 ? [Not Applicable]
Set/alter GST Details          ? No

Include In Assessble Value Calcluation For : GST
Appropriate To                      : Goods
Method Of Calculation         : Based On Value
                                  Malling Details
Name                :
Adress               :

Country            :
Provide bank details       : No

Apportion to    :
Both
Goods
Services

Name : Is Fild Me Ledger Ka Name Type Kare.


Unde  : Is Fild Me Indirect Expeness Ko Select Kre.

Inventory Value Are Affected : Ise No Set Kare.

Is Gst Applicable  :  Ise Not Applicable Select Kre.

Include In Assessble Value Calcluation For : Is Fild Me Gst Ko Select Kare.

Appropriate To : Is Fild Me Goods Ko Select Kare.

Method Of Calculation : Is Fild Me Based Of Quantity Ko Select Kare.


Note : Yadi Aap Is Ledger Ka Use Services Ke Liye Kr Rhe H To Appropriate Fild Me Service Ko Select Kre Aur Ydi Stock And Services Dono Ke Liye Kr Rahe H To Both  Option Ko Select Kare.

Yadi Aap Ledger Amount Ko Value Ke Aadhar Per Calculation Karna Chahte H  To Method Of Calculation Fild Me Based On Value Ko Select Kare.

(2.) Create Income Ledger For Gst –Commission Received:

Ledger    Creation                                                                      ABC Company 

Name           : Commission
(alias)           :

Unde                             :  Indirect Incomes:

Inventory Value Are Affected  ? No

                       Statutory Information
Is Gst Applicable              ? [Not Applicable]
Set/alter GST Details          ? No

Include In Assessble Value Calcluation For : GST
Appropriate To                    : services
Method Of Calculation       : Based On Value
                                  Malling Details
Name                :
Adress               :
Country            :
Applicablity
Applicable
Not Applicable
undefined

Name : Is Fild Me Ledger Ka Name Type Kare.


Unde  : Is Fild Me Indirect Incomeko Select Kre.

Inventory Value Are Affected : Ise No Set Kare.

Is Gst Applicable  :  Ise Not Applicable Select Kre.

Include In Assessble Value Calcluation For : Is Fild Me Gst Ko Select Kare.

Appropriate To : Is Fild Me Service Ko Select Kare. 

    
Method of calculation : is fild me based of value autometic aa jayega.


Dosto Yadi Aapko Hamari Yeh Post Pasand Aayi ho To Ise Apne Friends Ke Saath Share Jarur kare Aur Tally with GST ke Baare Me Aur Adhik Jaanne ke Liye Hume Comment Box me Comment Kare.

Thanks

Thursday, 15 February 2018

Free me Android App Kese Banaye Bina Coding Ke

Dosto IT ke is badte jamane me her koi yeh chahta h ki uski bhi ek Personal Android App ho lekin yeh sb programming language ke bina sambhaw nahi h lekin me aapko aaj is post me free me android app kese banaye iske baare me guid karne jaa raha hu.




Dosto free me Android App banane ke liye aapko kuch comman chizo ki jarurat hoti h jo aapke pass honi chahiye jese...

(1)Normal English Knowledge
(2)A Computer Ya Laptop
(3)Internet Connection


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
Dosto yadi aapke pass yeh 3 chiz h to aap bhi apni Android App bana sakte ho to chaliye ab hum free me android app banate h.

(1).Sabse pahle aap apne web browser me http://www.appsgeyser.com yeh link open kare.

(2).Link open karne ke baad me aapke saamne ek window open hogi jisme Right side uper corner me Login per click kare aur apna account register kare.


Note: Aap apne Facebook account se bhi log in kar sakte h.

(3).Account register hone ke baad me Create App per click kare

(4).Create App per click karne ke baad me aapke saamne ek aur window open hogi jisme aap jis type ki App banana chahte ho us type ka Template select kare aur Next Button per click kare


(5).Tamplate select karne ke baad me aapko App ki Setting krni h jese(App discription,App setting,App name,App ke liye Icon Ko choose kare ) etc. yeh sab karne ke baad me Create Button Per click kare

Tuesday, 13 February 2018

2017-18 Income Tax Department Full Detail

वित्तीय वर्ष 2017-18 इनकम टैक्स रिटर्न से जुड़ी पूरी जानकारी
टेक्स  स्लैब-
Salery   Tax Rate (%)        
250000/-               Nil
251000-500000     5%
500001-1000000
  20%
10लाख से अधिक   
  30%



वेतन एवम् भत्ते जो आयकर के अंतर्गत है:-
*मूल वेतन
*महंगाई भत्ता
*विशेष भत्ता
*बोनस
*एरियर
*फ़ूड/मेस भत्ता
*हार्ड ड्यूटी

आंशिक टेक्सबल भत्ते
*चिकित्सा पुनर्भरण 15000/- वार्षिक तक
*मकान किराया भत्ता(HRA)
*ट्रांसपोर्ट भत्ता 1600 महीना तक
*LTA 

टेक्स फ्री भत्ते
*Newspaper/Journal All. Up to 12000/-par year
*टेलीफोन/मोबाइल भत्ता ऑफिस काम आने वाला
भोजन कूपन 2200 हर माह

 ​इनकम टैक्स रिटर्न
देश के हर टैक्सपेयर की यह ड्यूटी है कि वह इनकम टैक्स विभाग को हर फाइनैंशल इयर के अंत में उस फाइनैंशल इयर में हुई आमदनी का ब्योरा दे। यह ब्योरा उसे विभाग द्वारा तय फॉर्म में भरकर देना होता है। इस ​फॉर्म के जरिये दी गई पूरी जानकारी इनकम टैक्स रिटर्न​ कहलाती है।

 ​फाइनैंशल इयर
1 अप्रैल से 31 मार्च तक के समय को फाइनैंशल इयर कहा जाता है। उदाहरण के तौर पर ​1 अप्रैल 2017 से 31 मार्च 2018 तक​ के समय को फाइनैंशल इयर 2017-18 कहा जाएगा।

 ​असेसमेंट इयर
असेसमेंट इयर फाइनैंशल इयर से आगे वाला साल होता है, जिस साल उस फाइनैंशल इयर के टैक्स संबंधी मामलों का आकलन किया जाता है। मसलन ​फाइनैंशल इयर 2017-18के लिए असेसमेंट इयर 2018-19​ होगा

 ​डिडक्शंस
विभिन्न तरह के इन्वेस्टमेंट पर इनकम टैक्स विभाग की ओर से आपको टैक्स में छूट मिलती है। ये कई तरह के आइटम होते हैं, जहां ​इन्वेस्टमेंट करके टैक्स में छूट हासिल की जा सकती है। मसलन सेक्शन 80सी से सेक्शन 80यू तक जो भी आइटम हैं, उन्हें डिडक्शन के तहत​ माना जाता है।

 ​ग्रॉस इनकम
टैक्स फ्री आमदनी और भत्तों को छोड़कर आपकी साल की कुल आमदनी जो भी है, उसे ग्रॉस इनकम कहा जाता है। ​ग्रॉस इनकम हमेशा 80 सी से 80 यू तक मिलने वाले डिडक्शन से पहले वाली इनकम​ होती है।

 ​टैक्सेबल इनकम​
ग्रॉस इनकम में से ​80 सी से 80 यू तक मिलने वाले डिडक्शन क्लेम कर लेने के बाद जो इनकम आती है, उसे टैक्सेबल इनकम कहते हैं।​ यानी डिडक्शन से पहले वाली इनकम ग्रॉस इनकम और डिडक्शन के बाद वाली इनकम को टैक्सेबल इनकम कहते हैं।

 ​टीडीएस
आपकी जो भी आमदनी होती है, सरकार उस पर टैक्स काटती है। इसे ​टैक्स डिडक्टेड ऐट सोर्स​ कहा जाता है। जो संस्था आपको पेमेंट कर रही है, वही टैक्स की इस रकम को काटकर बाकी रकम आपको पे करती है।  टीडीएस काटने का काम एंम्प्लॉयर या पेमेंट करने वाली संस्था का है।

 ​इनकम टैक्स रिफंड
अगर किसी टैक्सपेयर ने सरकार को ज्यादा टैक्स दे दिया है, तो वह उस रकम को सरकार से वापस ले सकता है। इस वापस आई रकम को ही रिफंड कहा जाता है। ​टैक्स रिटर्न भरकर आप इस एक्स्ट्रा रकम को इनकम टैक्स विभाग से क्लेम करते हैं। इसके बाद रिफंड की यह रकम आपको इनकम टैक्स विभाग की ओर से आपके अकाउंट में​ भेज दी जाती है।

डिडक्शंस की लिस्ट​ 
80 सी, 80 सीसीसी और 80 सीसीडी में इन आइटम में छूट मिलती है। इसकी सीमा फाइनैंशल इयर 2017-18 के लिए 1.5 लाख रुपये है।
पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF)
एंप्लॉयी प्रॉविडेंट फंड (EPF)
पांच साल की बैंक एफडी
दो बच्चों की ट्यूशन फीस
सीनियर सिटिजंस सेविंग्स स्कीम
होम लोन के रीपेमेंट में प्रिंसिपल अमाउंट के तौर पर दी जाने वाली रकम
लाइफ इंशूरंस पॉलिसी प्रीमियम जो आप चुकाते हैं।
NSC viii इश्यू
इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम यानी ELSS
सुकन्या समृद्धि योजना में किया गया इन्वेस्टमेंट

डेढ़ लाख के अलावा
इन आइटमों में भी छूट मिलती है, जो 1.5 लाख की सीमा से अलग है:
80 D : हेल्थ इंशूरंस पॉलिसी का प्रीमियम 15 हजार की सीमा तक।
24 b : होम लोन के रीपेमेंट में ब्याज की रकम पर। इसकी सीमा दो लाख रुपये है।
★80 E : हायर स्टडीज के लिए लिए गए एजुकेशन लोन के रीपेमेंट में ब्याज की रकम पर। कोई सीमा नहीं।
★80 G : किसी संस्था को दी जाने वाली डोनेशन।
★U/S 87 के तहत् 3.50 लाख तक टेक्सेबल वार्षिक आय पर 2500/-की छूट का प्रावधान किया है।*​वित्तीय वर्ष 2017-18 इनकम टैक्स रिटर्न से जुड़ी पूरी जानकारी​*


Income Tax Department me Form No.16,Form No.16A,And Form No.26AS kya h

Form 16​

अगर आप कहीं नौकरी करते हैं तो आपका एम्प्लॉयर आपको एक फॉर्म 16 देता है। यह फॉर्म अब तक आपके एम्प्लॉयर ने आपको दे दिया होगा। यह इस बात को साबित करता है कि एम्प्लॉयर ने आपकी सैलरी से अगर टैक्स बनता है, तो टीडीएस काटा है। इनकम टैक्स के नियमों के मुताबिक हर एम्प्लॉयर के लिए जरूरी है कि वह फॉर्म 16 अपने कर्मचारियों को दे। अगर आपका एम्प्लॉयर आपको यह फॉर्म नहीं दे रहा है तो आप इसकी रिक्वेस्ट उसे रजिस्टर्ड डाक से भेजें और इसका सबूत अपने पास रखें। इनकम टैक्स विभाग के पूछताछ करने पर यह सबूत दिखाया जा सकता है।​​

Form 16 A​

अगर ​सैलरी के साथ-साथ दूसरे जरियों से भी आपको आमदनी हुई हो और उस पर टीडीएस कट चुका हो तो उस संस्था से भी टीडीएस सर्टिफिकेट ले लें। इस सर्टिफिकेट को ही फॉर्म 16ए​ कहा जाता है। यहां हम रेंटल इनकम, शेयर, एफडी वगैरह से होने वाली इनकम की बात कर रहे हैं। एफडी के मामले में आपका बैंक आपको यह सर्टिफिकेट देगा।



Form 26 AS​

फॉर्म ​26एएस एक कंसॉलिडेटेड टैक्स स्टेटमेंट​ है। इसमें खासतौर से तीन तरह के ब्योरे होते हैं। पहला टीडीएस का ब्योरा, दूसरा टैक्स कलेक्टेड ऐट सोर्स का ब्योरा और तीसरा टैक्सपेयर द्वारा बैंक में जमा कराया गया एडवांस टैक्स/सेल्फ असेसमेंट टैक्स का ब्योरा। फॉर्म 26 एएस से आप यह पता लगा सकते हैं कि कंपनी या बैंक ने आपका जो टीडीएस काटा है, उसे सरकार के पास जमा कराया भी है या नहीं। इस टीडीएस का ब्योरा आप दो तरह से देख सकते हैं।
पहले incometaxindiaefiling.gov.in पर जाएं। अगर आप पिछले सालों में रिटर्न भर चुके हैं तो आपके पास यूजर नेम और पासवर्ड होगा। इसी से लॉग-इन करें। अगर पहली बार रिटर्न भर रहे हैं तो Register Yourself पर जाकर रजिस्टर करें। यूजर नेम आपका पैन नंबर होता है और पासवर्ड आप खुद जेनरेट करेंगे। लॉग-इन करने के बाद View Form 26 AS पर क्लिक करें। अगर आप नेट बैंकिंग इस्तेमाल करते हैं तो बैंक की वेबसाइट पर जाकर View Your Tax Credit पर क्लिक करके फॉर्म 26 एएस देख सकते हैं, लेकिन इससे केवल उस बैंक में चल रही आपकी एफडी, सेविंग्स अकाउंट पर ब्याज आदि का ही पता चलेगा।

Incometax भरते समय यह 7 गलतिया कभी न करे

7 टॉप गलतियां जो हम कर जाते हैं...​ 

1. रिटर्न फाइल न करना
चूंकि ​आप पर टैक्स की कोई देनदारी नहीं है, इसलिए आपको रिटर्न भरने की जरूरत नहीं है, अगर आपकी ऐसी सोच है तो आप गलत हैं।​ रिटर्न भरने से आजादी सिर्फ उन लोगों को है, जिनकी सालाना ग्रॉस इनकम बेसिक एग्जेंप्शन लेवल से कम है। 60 साल से कम उम्र के लोगों के लिए यह सीमा ढाई लाख रुपये है, 60 साल से ज्यादा और 80 साल से कम उम्र के बुजुर्गों के लिए 3 लाख रुपये है और 80 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों के लिए 5 लाख रुपये है। जिस किसी की भी आमदनी इससे ज्यादा है, उसे रिटर्न भरना अनिवार्य है।

2. गलत फॉर्म चुनना
किसे कौन-सा फॉर्म भरना है, इसके लिए बाकायदा नियम हैं। कई बार लोग गलत फॉर्म का चुनाव कर लेते हैं। अपनी ​कैटिगरी के हिसाब से सही रिटर्न फॉर्म चुनें​ और उसे ही भरें।

3. खाली फॉर्म पर साइन
जो लोग किसी एजेंट के जरिए रिटर्न भरते हैं, वे अक्सर खाली रिटर्न फॉर्म पर दस्तखत करके एजेंट को दे देते हैं। एजेंट बाद में उस फॉर्म को भरकर जमा कर देता है। खाली फॉर्म पर दस्तखत न करें। फॉर्म भरने में एजेंट से गलती हो गई तो आपको दिक्कत होगी। ​भरे हुए रिटर्न फॉर्म पर एक नजर डाल लेने के बाद ही उस पर साइन​ करें।

4. नंबरों पर ध्यान
रिटर्न फॉर्म में पैन, आईएफएस कोड, अकाउंट नंबर, एम्प्लॉयर का टैन जैसी कुछ फिगर्स ऐसी होती है जिन्हें भरते वक्त गलती होने की आशंका रहती है। इन नंबरों को ध्यान से भरें। फर्ज करें ​अगर आपने अपने पैन की एक डिजिट भी गलत भर दी, तो इनकम टैक्स विभाग आपके ऊपर जुर्माना​ लगा सकता है।

5. फॉर्म 16 न लेना
अगर आपने फाइनैंशल इयर के दौरान नौकरी बदली है तो अपने दोनों एम्प्लॉयर से ​फॉर्म 16 जरूर ले लें।​ अपने पहले एम्प्लॉयर के साथ काम के दौरान की गई सेविंग्स और उससे हुई आमदनी अगर आपने अपने नए एम्प्लॉयर को नहीं बताई है तो हो सकता है, वह कम टैक्स काटे और बाद में आपको कम काटा गया टैक्स ब्याज सहित भरना पड़े।

6. ब्याज न बताना
कई बार लोग फिक्स्ड डिपॉजिट और सेविंग्स अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज का जिक्र अपने इनकम टैक्स रिटर्न में नहीं करते हैं। उन्हें ऐसा लगता है कि बैंक ने टीडीएस तो काट ही लिया है इसलिए उस आमदनी को आईटीआर में दिखाने की अब उन्हें कोई जरूरत ही नहीं रह गई है। यह धारणा पूरी तरह से गलत है।

7. इनकम की क्लबिंग को नजरंदाज करना
कई लोग पत्नी और बच्चों के नाम से भी इन्वेस्टमेंट करते हैं। आप पत्नी को कितनी भी रकम दे सकते हैं, लेकिन गिफ्ट की गई रकम को आप इन्वेस्ट करते हैं तो सेक्शन 64 सामने आ जाता है। इसके मुताबिक, गिफ्ट की गई रकम से कोई आमदनी होती है तो वह आपकी टैक्सेबल इनकम में जोड़ी जाएगी। इससे फर्क नहीं पड़ता कि पार्टनर को आमदनी होती है या नहीं।
FY 2017-18 मैं टेक्सबल आय होने पर भी return नहीं भरने पर दिनांक 31.07.18 से 31.12.18 तक 5000/- और 31.12.18 से 31.12.19 तक 10000/-जुमार्ना तय किया है।

Tally.ERP9 Me Masters Aur Voucher Ko Kese Export Kare



Dosto Tally With GST In Hindi Ke Is अध्याय Me Hum Jaanenge Ki Tally.ERP9 Me Masters And Voucher Data Ko Kese Export Kare Aaiye Jaante H...



(1)Tally.ERP9 Me Masters Ko Kese Export Kare

Dosto Tally.ERP9 Me Masters Ko Export Karne Ke Liye Tally Ke Display Menu Me Jakar List Of Accounts Ko Select Kare Isse Sabhi Masters Ki List Show Hogi.Ise Export Karne Ke Liye Button Bar Per Bane E:Export Button Per Click Kare Isse Data Export Screen Show Hogi.Isme Mouce Pointer Ko Wapas Lane Ke Liye Backspace Key Press Kare Aur Dialog Box Ko
निम्न प्रकार Set Kare..


जरुर पढ़े 


                                   Exporting List Of Ledgers

           Language                           :  Default(All Languages)
           Format                               :  XML(Data Interchange)
           Export Location                 : C:\Program Files \Tally\Tally.ERP9
           Output File Name              : Maters.Xml
           Open Exported Folders     ? Yes 
Type Of Masters                                 :   All Masters
Include Dependent Masters                ?   Yes
Export Closing Blances As Opening     ?   Yes
To Date                                                :  1-5-2018
                                                                                                          


Language: Is Fild Me Default(All Language)Select Kare.

Format: Is Fild Me XML(Data Interchange)Select Kare.

Export Location: Is Fild Me Hame Data Ko Kaha Export Krna H Yeh Select Karna H Jese C-Drive Ke Kisi Folder Me Ya Fir D-Drive Ya Fir E-Drive Koi B Ek Location Choose Kar Sakte Ho Jo Aapko Achha Lage.

Output File Name: Is Fild Me Export Karne Wali File Ka Name Enter Kare Is File Ka Bydefault Name (Master.Xml)Hota H.

Type Of Masters:
 Is Fild Me (All Master) Select Kare.

Export Closing Balance A Opening: 
Is Fild Ko (No) Select Kare.

(2) Tally.ERP9 Me Voucher Data Ko Kese Export Kare

Tally.ERP9 Me Voucher
द्वारा Enter Kiye Gaye Data Ko Day Book Se Dekha Ja Sakta H.Tally.ERP9 Me Voucher Data Ko Export Karne Ke Liye Tally Ke Display Menu Me Jakar Day Book Select Kare Yaha Se ALT+F2 Key Press Kare Aur Export Data Ki अवधि Enter Kare.Voucher Data Ko Export Krne Ke Liye Button Bar Per Bane E:Export Button Per Click Kre Ya Fir Key Bord Se ALT+E Key Press Kare Isse Data Export Screen Show Hogi Isme Mouce Pointer Ko Wapas Lane Ke Liye Backspace Key Press Kare .Isme Diye Gaye Filds Ko आवस्कतानुसार Set Kare. 



                                     Exporting List Of Ledgers

           Language                          :  Default(All Languages)
           Format                              :  XML(Data Interchange)
           Export Location               : C:\Program Files \Tally\Tally.ERP9
           Output File Name            : Maters.Xml
           Open Exported Folders    ? Yes 
         ….…. 5 More
Show Voucher Number Also                            ? Yes

Show Narrations                                               ? Yes

Show Bill Wise Details                                     ? Yes

Show Cost Center Details Also                        ? Yes

Show Inventory Details                                     ? Yes

Show Additional Description Of Stock Item        ? No

Show Bank Details Also                                    ? Yes

Show Additional Details                                   ? Yes

Show Entered/Aftered By                                  ? No

Show Dependant Masters Also                          ? No

Select Vouchers To Show                            ?   All Vouchers
                                                                                     1   More……          


Language: Is Fild Me Default(All Language)Select Kare.

Format: Is Fild Me XML(Data Interchange)Select Kare.

Export Location: 
Is Fild Me Hame Data Ko Kaha Export Krna H Yeh Select Karna H Jese C-Drive Ke Kisi Folder Me Ya Fir D-Drive Ya Fir E-Drive Koi B Ek Location Choose Kar Sakte Ho Jo Aapko Achha Lage.


Output File Name: 
Is Fild Me Export Karne Wali File Ka Name Enter Kare Is File Ka Bydefault Name (Master.Xml)Hota H.

Open Exported Folder: Is Fild Ko (Yes) Set Kare.

Note: Voucher Data Ko Export Karne Ke Liye XML Format Ka Use Kre.Voucher Data Ko Export Krte Time Data Se Realeted Option Jese(Narration,Bil Wise Detail,Cost Center Etc.)
आदि Ko Yes Set Kare.

Dosto Yadi Aako Hamari Yeh Post Pasand Aayi Ho To Ise Apne Friends Ke Saath Jarur Share Kre Aur Aapko Tally With GST Ke Baare Me Aur Adhik Information Chahiye To Hume Comment Box Me Comment Kare.

Thanks. 


Sunday, 11 February 2018

Tally Data ko Excel se Kese link Kare

Excel se Tally data kese link kare

Dosto Tally With GST ke इससे pahli wali post me humne jaana ki Tally Data Ko Export Kese kare aasa karta hu ki aapko yeh post psand aayi hogi aur ab hum janenge ki Excel se Tally data kese link kare ODBC द्वारा Tally data ko M.S. excel me le jaane ke liye tally aur M.S. excel ko चरणबद trike se jodna hoga.Iske liye aap in steps ka use kre.
Tally data ko Excel se link karne se pahle hum yeh jaan lete h ki Tally me ODBC Server kya h Aaiye jaante h..

Tally me ODBC Server kya h
ODBC ka matlab open database connectivity se h.Yah ek programing language interface jiska use data ko aaps me ek dusre se link karne ke liye kiya jaata h.Tally.ERP9 me ODBC ka use Tally data ko kisi dusre application software per le jaane ke liye kiya jaata h.
Iske liye Tally me ODBC server aur aapke computer me MS-Query load hona आवश्यक h yadi Tally me ODBC server install h to Tally ke info panel me configration bhaag me ODBC Server likha hua hoga.Aiye ab hum jaante h ki ...

Excel se Tally data kese link kare

* Sabse phle Tally.ERP9 start kre.

* Aab us company ko select kre jiske data ko excel me import krna chahte h.yaha kewal ek hi company select honi chahiye.

* Microsoft excel open kare data menu me jaye aur From Other Sources icon pr click kre.yaha se From Microsoft Query option select kre.

* Is se data source dailogbox show hoga. 

* Yaha se Tally ODBC_9000* option select kre aur OK button per click kre.Is se query wizard ka coloum selection dialogbox show hoga.

* Yaha se Available tables and columns fild se related field select krke Columns in your query fild me le jaye.Is ke baad Next button pr click kre. Isse filter data query wizard dailogbox show hoga.

* Data ko filter krne ke baad Next button per fir se click kre. Isse sort order query wizard dailogbox show hoga.

* Is me data ka sort order set kre aur Next button per click kre. Isse query wizard ka finish dailogbox show hoga.

* Yaha se query ko save krne ke liye Save Query button per click kre.Isse save as dailogbox show hoga.Query ko save krne ke liye file ka name enter kre.Yaha se Return Data to Microsoft Office Excel option select krke Finish battan pr click kre.Isse import data dailogbox show hoga.

* Is me Tally data ko excel me import krne ka place(सेल व् शीट)निर्धारित  kre.Yadi aap tally data ko new worksheet pr import krna chahate h to new worksheet option select kre.Last me OK button per click kre .Isse tally data excel me import ho jayega.Yah data is prkar show hoga.

* Last me file ko save kre.

Excel Me Data Ko Upgrade Kese Kre:

 Tally data ko ODBC द्वारा excel me import krne ke baad aap file ko बंद kr de.Aur Tally me work krte rhe.Excel me telly data apne aap hi upgrade nahi hota.Is ke liye tally me only wahi company select kre jiske data ko excel me export kiya gaya h.

Ab excel se wahi file khole jisme tally data ko import kiya hua h.Yaha de data menu me jaye aur Refresh Data button pr click kre yaa Ctrl+Alt+F5 key ka use kre.Isse excel data apne aap hi upgrade ho jayega.Is prkar aap baar-baar tally data ko upgrade kr skte h.

Dosto Yadi Aako Hamari Yeh Post Pasand Aayi Ho To Ise Apne friends Ke Saath Jarur Share Kre Aur Aapko Tally With GST ke Baare Me Aur Adhik Information Chahiye To Hume Comment Box Me Comment Kare.
Thanks.